Type Here to Get Search Results !

कंप्यूटर का इतिहास और विकास | Computer Hindi Notes

History and Development of Computer (कंप्यूटर का इतिहास और विकास)

Abacus

कंप्यूटर का इतिहास लगभग 3000 वर्ष पुराना है। जब चीन में एक गणना मशीन अबेकस का आविष्कार हुआ था, यह एक यांत्रिक उपकरण है जिसका उपयोग अभी भी चीन, जापान सहित एशिया के कई देशों में संख्याओं की गणना के लिए किया जाता था। अबैकस तारों का एक फ्रेम है। इन तारों में मनके (पके हुए मिट्टी के गोले) पिरोए जाते हैं। प्रारंभ में, अबेकस का उपयोग व्यापारियों द्वारा गणना कार्य के लिए किया जाता था। यह मशीन संख्याओं को जोड़ने, घटाने, गुणा करने और विभाजित करने का काम करती थी। 

Computer Hindi Notes


Blase Pascal

सदियों से, संख्याओं की गणना करने के लिए कई अन्य यांत्रिक मशीनों का विकास किया गया। 17वीं शताब्दी में, फ्रांसीसी गणितज्ञ ब्लेज़ पास्कल ने 1645 में एक यांत्रिक डिजिटल कैलकुलेटर विकसित किया। इस मशीन को जोड़ने वाली मशीन कहा जाता था, क्योंकि यह केवल जोड़ या घटा सकती थी। यह मशीन क्लॉक और ओडोमीटर के सिद्धांत पर काम करती थी। इसमें कई दांतेदार पहिए लगे होते थे, जो घूमते रहते थे। पहियों के दांतों पर 0 से 9 तक के नंबर छपे होते थे। प्रत्येक पहिए का एक स्थानीय मान होता था जैसे इकाई, दहाई, सैकड़ा आदि। इसके बाद दूसरा चक्र घूमता था। Blase Pascal की इस Adding Machine को Pascaline भी कहा जाता है.

Computer Hindi Notes


Jacquard’s Loom

1801 में, फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जैक्वार्ड ने कपड़े की बुनाई के लिए एक ऐसे करघे का आविष्कार किया, जिसने कार्डबोर्ड के पंच कार्ड के साथ कपड़े में डिज़ाइन या पैटर्न को नियंत्रित किया। इस करघे की विशेषता यह थी कि यह छेद वाले कार्डबोर्ड पंच कार्ड से कपड़े के पैटर्न को नियंत्रित करता था, धागे पंच कार्ड पर चित्रों की उपस्थिति या अनुपस्थिति द्वारा निर्देशित होते थे।



Charles Babbage

कंप्यूटर के इतिहास में 19वीं शताब्दी को प्रारंभिक काल का स्वर्ण युग माना जाता है। अंग्रेज गणितज्ञ चार्ल्स बैबेज को एक यांत्रिक गणना मशीन विकसित करने की आवश्यकता तब महसूस हुई जब गणना के लिए बनाई गई तालिकाओं में त्रुटि हो गई।

चार्ल्स बैबेज ने 1822 में एक मशीन का निर्माण किया, जिसका खर्च ब्रिटिश सरकार ने वहन किया। उस मशीन का नाम डिफरेंस इंजन था, इस मशीन में गियर और शाफ्ट थे। यह भाप से चलती थी। 1833 में, चार्ल्स बैबेज ने विश्लेषणात्मक इंजन विकसित किया, जो कि विभिन्न इंजन का एक विकसित रूप था, जो एक बहुत ही शक्तिशाली मशीन थी। बैवेस ने कंप्यूटर के विकास में बहुत बड़ा योगदान दिया है। बेवेज का विश्लेषणात्मक इंजन आधुनिक कंप्यूटर का आधार बना और यही कारण है कि चार्ल्स बेवेज को कंप्यूटर विज्ञान का जनक कहा जाता है।

Computer Hindi Notes


Dr. Howard Aiken’s Mark-I

1940 में Electrometrical Computing अपने शिखर पर पहुंच गई थी। IBM के चार शीर्ष इंजीनियरों और डॉ. हावर्ड आइकेन ने 1944 में एक मशीन विकसित की। यह दुनिया का पहला "Electromechanical Computer" था और इसका आधिकारिक नाम था- Automated Sequence Controlled Calculator रखा गया। इसे फरवरी 1944 में हार्वर्ड विश्वविद्यालय भेजा गया, जो 7 अगस्त 1944 को विश्वविद्यालय में प्राप्त हुआ। इस विश्वविद्यालय में इसे मार्क-I नाम दिया गया। यह 6 सेकंड में 1 गुणा और 12 सेकंड में 1 भाग कर सकता था।

A.B.C. (Atanasoff – Berry Computer)

1945 में, अटानासॉफ़ और क्लिफोर्ड बेरी ने एबीसी नामक एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन विकसित की। एबीसी शब्द अटानासॉफ़ बेरी कंप्यूटर के लिए छोटा है। एबीसी पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर था।


Final Words

तो दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी! शेयरिंग बटन पोस्ट के नीचे इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। इसके अलावा अगर बीच में कोई परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में पूछने में संकोच न करें। आपकी सहायता कर हमें खुशी होगी। हम इससे जुड़े और भी पोस्ट लिखते रहेंगे। तो अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर हमारे ब्लॉग “Study Toper” को बुकमार्क (Ctrl + D) करना न भूलें और अपने ईमेल में सभी पोस्ट प्राप्त करने के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करें। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। आप इसे व्हाट्सएप, फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर साझा करके अधिक लोगों तक पहुंचने में हमारी सहायता कर सकते हैं। शुक्रिया!

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad