B.ed second year paper 4th Guidence and counselling in school important questions and answers

Table of contents (toc)

Q .1 निर्देशन से आप क्या समझते हैं इसकी आवश्यकता एवं उद्देश्य को स्पष्ट कीजिए

निर्देशन एक प्रक्रिया है जिसके माध्यम से किसी कार्य, गतिविधि या प्रक्रिया को सही ढंग से संपन्न करने के लिए आवश्यक जानकारी, मार्गदर्शन और समर्थन प्रदान किया जाता है। निर्देशन के कई आवश्यकताएं और उद्देश्य होते हैं:


आवश्यकता:

1. ज्ञान का हस्तांतरण: निर्देशन के माध्यम से विशेषज्ञता और अनुभव को नवागंतुकों या अन्य सदस्यों तक पहुंचाया जाता है।

2. गुणवत्ता सुनिश्चित करना: सही दिशा-निर्देशों के पालन से कार्य की गुणवत्ता और परिणाम सुनिश्चित होते हैं।

3. समस्या समाधान: निर्देशन के माध्यम से समस्याओं का त्वरित और प्रभावी समाधान प्राप्त होता है।

4. प्रदर्शन सुधार: कार्य की प्रक्रिया और विधियों के बारे में स्पष्ट जानकारी से प्रदर्शन में सुधार होता है।

5. विकास और प्रशिक्षण: निर्देशन व्यक्तियों को उनके कौशल और ज्ञान को विकसित करने में मदद करता है।

 उद्देश्य:

1. उत्पादकता बढ़ाना: सही निर्देशन से कार्यक्षमता और उत्पादकता में वृद्धि होती है।

2. समय और संसाधन बचत: निर्देशों के सही अनुपालन से समय और संसाधनों की बचत होती है।

3. दिशा और लक्ष्यों की स्पष्टता: निर्देशन से व्यक्तियों को कार्य की दिशा और लक्ष्यों के बारे में स्पष्टता मिलती है।

4. टीम का समन्वय: निर्देशन से टीम के सदस्यों के बीच समन्वय और सहयोग को बढ़ावा मिलता है।

5. नियम और प्रक्रियाओं का पालन: निर्देशन के माध्यम से संगठनात्मक नियमों और प्रक्रियाओं का सही पालन सुनिश्चित होता है।


निर्देशन की प्रक्रिया व्यक्तियों और संगठनों को उनके लक्ष्यों को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, और यह सुनिश्चित करती है कि कार्य प्रभावी और कुशलतापूर्वक संपन्न हो।


Q 2 अधिगम अक्षमता को परिभाषित करते हुए अधिगम अक्षमता वाले बालकों की विशेषताएं बताइए

अधिगम अक्षमता (Learning Disability) एक ऐसी स्थिति है जिसमें बच्चे को सामान्य बुद्धि और शिक्षा के बावजूद पढ़ने, लिखने, गणित करने या अन्य शैक्षिक कौशलों को समझने में कठिनाई होती है। यह अक्षमता मस्तिष्क के उन हिस्सों को प्रभावित करती है जो सूचना की प्रक्रिया और संप्रेषण के लिए जिम्मेदार होते हैं।

 अधिगम अक्षमता की परिभाषा:

अधिगम अक्षमता का अर्थ है शैक्षणिक कौशलों में अपेक्षित स्तर पर प्रदर्शन न कर पाना, जबकि अन्य क्षेत्रों में बच्चे का सामान्य विकास हो। यह स्थिति बच्चों के सीखने की प्रक्रिया में व्यवधान डालती है, जिससे वे शैक्षणिक गतिविधियों में संघर्ष करते हैं।


 अधिगम अक्षमता वाले बालकों की विशेषताएं:

1. पढ़ने में कठिनाई:

   - शब्दों को सही ढंग से पहचानने या उच्चारण करने में कठिनाई।

   - पढ़ी गई सामग्री को समझने में कठिनाई।

   - पढ़ने की गति धीमी और त्रुटिपूर्ण होती है।


2. लिखने में कठिनाई:

   - सही वर्तनी और व्याकरण का उपयोग करने में समस्या।

   - लेखन कार्य में संगठन और स्पष्टता की कमी।

   - लिखने की गति धीमी और अक्षरों का अनियमित आकार।


3. गणित में कठिनाई:

   - संख्या की मूलभूत अवधारणाओं को समझने में समस्या।

   - गणितीय समस्याओं को हल करने में कठिनाई।

   - गणितीय तथ्यों को याद रखने और लागू करने में कठिनाई।


4. ध्यान और एकाग्रता में कठिनाई:

   - ध्यान को केंद्रित रखने में कठिनाई।

   - लंबी अवधि तक किसी कार्य में एकाग्रचित्त रहने में समस्या।

   - निर्देशों को समझने और पालन करने में कठिनाई।


5. सामाजिक और भावनात्मक समस्याएं:

   - आत्मसम्मान में कमी।

   - सामाजिक संबंधों में कठिनाई।

   - अवसाद, चिंता और व्यवहारिक समस्याएं।


6. संगठनात्मक कौशल की कमी:

   - समय प्रबंधन में समस्या।

   - काम को संगठित करने और प्राथमिकता देने में कठिनाई।

   - कार्यों को समाप्त करने में असमर्थता।


7. श्रवण और दृश्य प्रसंस्करण में कठिनाई:

   - शब्दों या निर्देशों को सुनने और समझने में कठिनाई।

   - दृश्य जानकारी को सही ढंग से समझने और याद रखने में समस्या।


 निदान और समर्थन:

अधिगम अक्षमता के निदान के लिए शैक्षणिक और मनोवैज्ञानिक परीक्षण किए जाते हैं। उचित शिक्षा और समर्थन के माध्यम से बच्चों की कठिनाइयों को कम किया जा सकता है। इसके लिए विशेष शिक्षा कार्यक्रम, व्यक्तिगत शिक्षा योजनाएँ (IEP), और अतिरिक्त सहायता सेवाएँ उपलब्ध कराई जाती हैं।


अधिगम अक्षमता वाले बच्चों को सही समय पर पहचान और समर्थन प्राप्त होने पर वे अपनी पूरी क्षमता का विकास कर सकते हैं और समाज में सक्रिय और सफल नागरिक बन सकते हैं।

Q 3 अधिगम अक्षमता वाले बालकों के विभिन्न प्रकार लिखिए

अधिगम अक्षमता के विभिन्न प्रकार होते हैं, जो बालकों को अलग-अलग शैक्षिक और विकासात्मक चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रेरित करते हैं। मुख्य अधिगम अक्षमताओं में निम्नलिखित शामिल हैं:


1. डिस्लेक्सिया (Dyslexia):

   - पढ़ने और भाषा प्रसंस्करण में कठिनाई।

   - शब्दों को पहचानने, उच्चारण करने, और पढ़ने की गति में समस्या।

   - वर्तनी और लेखन में कठिनाई।


2. डिसग्राफिया (Dysgraphia):

   - लेखन में कठिनाई।

   - लिखने में गति, स्पष्टता, और संगठित विचारों की कमी।

   - सही वर्तनी और व्याकरण का उपयोग करने में समस्या।


3. डिस्कैल्कुलिया (Dyscalculia):

   - गणितीय अवधारणाओं को समझने में कठिनाई।

   - गणितीय तथ्यों, संख्याओं, और गणितीय समस्याओं को हल करने में समस्या।

   - गणितीय संचालन (जैसे जोड़, घटाव, गुणा, और भाग) में कठिनाई।


4. ऑडिटरी प्रोसेसिंग डिसऑर्डर (Auditory Processing Disorder):

   - सुनी गई जानकारी को सही ढंग से समझने और प्रसंस्करण करने में समस्या।

   - निर्देशों का पालन करने में कठिनाई।

   - शोर-शराबे वाले वातावरण में सुनने और ध्यान केंद्रित करने में समस्या।


5. विजुअल प्रोसेसिंग डिसऑर्डर (Visual Processing Disorder):

   - दृश्य जानकारी को सही ढंग से समझने और प्रसंस्करण करने में समस्या।

   - पढ़ते समय अक्षरों और शब्दों की पहचान करने में कठिनाई।

   - दृश्य-मोटर एकीकरण में समस्या।


6. नॉनवर्बल लर्निंग डिसऑर्डर (Nonverbal Learning Disorder):

   - गैर-मौखिक संकेतों को समझने और प्रसंस्करण करने में समस्या।

   - सामाजिक संकेतों और शारीरिक भाषा को समझने में कठिनाई।

   - स्थानिक अवधारणाओं और मोटर कौशल में कमजोरी।


Q. 4 अधिगम अक्षमता का उपचार कैसे किया जाता है? समझाइए 

अधिगम अक्षमता का कोई निश्चित उपचार नहीं होता है, क्योंकि यह एक स्थायी स्थिति है। हालांकि, विभिन्न रणनीतियों और हस्तक्षेपों के माध्यम से बच्चों की शैक्षणिक और जीवन कौशलों में सुधार किया जा सकता है। ये उपाय बच्चों को उनकी कठिनाइयों को कम करने और उनकी पूरी क्षमता का विकास करने में मदद करते हैं। अधिगम अक्षमता के प्रबंधन के लिए निम्नलिखित उपाय अपनाए जा सकते हैं:


 1. शैक्षणिक हस्तक्षेप और विशेष शिक्षा:

   - व्यक्तिगत शिक्षा योजना (IEP): प्रत्येक बच्चे की विशेष आवश्यकताओं और क्षमताओं के अनुसार एक व्यक्तिगत योजना बनाई जाती है। यह योजना शैक्षणिक लक्ष्यों, रणनीतियों, और आवश्यक समर्थन सेवाओं को निर्दिष्ट करती है।

   - विशिष्ट शिक्षण विधियाँ: विशेष शिक्षा शिक्षकों द्वारा विकसित विशेष शिक्षण विधियाँ, जैसे कि मल्टी-सेंसरी शिक्षण, ऑर्टन-गिलिंघम विधि (डिस्लेक्सिया के लिए), और अन्य अनुकूलनकारी रणनीतियाँ।


 2. सहायक प्रौद्योगिकी:

   - कंप्यूटर और सॉफ्टवेयर: विशेष शिक्षण सॉफ्टवेयर, ऑडियोबुक्स, और स्पीच-टू-टेक्स्ट सॉफ्टवेयर का उपयोग।

   - अन्य उपकरण: ऑडियो रिकॉर्डिंग उपकरण, इलेक्ट्रॉनिक ऑर्गनाइज़र, और गणितीय गणना के लिए कैलकुलेटर।


 3. शिक्षण समायोजन और संशोधन:

   - समय बढ़ाना: परीक्षाओं और असाइनमेंट्स के लिए अतिरिक्त समय प्रदान करना।

   - संशोधित निर्देश: जटिल निर्देशों को छोटे, सरल हिस्सों में तोड़ना।

   - दृश्य सहायता: दृश्य चार्ट, ग्राफिक्स, और अन्य विजुअल एड्स का उपयोग।


 4. व्यवहारिक और मनोवैज्ञानिक समर्थन:

   - काउंसलिंग और थेरेपी: मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा व्यक्तिगत या समूह काउंसलिंग।

   - बिहेवियर थेरेपी: बच्चों को व्यवहारिक रणनीतियाँ सिखाना, जैसे कि आत्म-नियंत्रण और ध्यान केंद्रित करना।


 5. शिक्षक और माता-पिता की भागीदारी:

   - शिक्षक प्रशिक्षण: शिक्षकों को अधिगम अक्षमता के बारे में जागरूकता और विशेष शिक्षण रणनीतियों का प्रशिक्षण।

   - माता-पिता की शिक्षा: माता-पिता को उनकी भूमिका और सहयोग के बारे में जानकारी देना, ताकि वे घर पर भी समर्थन प्रदान कर सकें।


 6. समुदाय और सहयोग:

   - समूह समर्थन: सहायक समूहों और समुदायों में शामिल होना, जहाँ माता-पिता और बच्चे एक-दूसरे के अनुभव और सुझाव साझा कर सकें।

   - सामुदायिक संसाधन: स्थानीय समुदायों में उपलब्ध संसाधनों और सेवाओं का उपयोग, जैसे कि ट्यूटरिंग सेवाएँ, विशेष शिक्षा कक्षाएँ, और सामाजिक सेवा संगठन।


इन उपायों का उद्देश्य अधिगम अक्षमता वाले बच्चों को उनकी शैक्षणिक, सामाजिक, और भावनात्मक चुनौतियों का सामना करने के लिए आवश्यक उपकरण और समर्थन प्रदान करना है। नियमित मूल्यांकन और अनुकूलन के माध्यम से, इन रणनीतियों को बच्चों की बदलती आवश्यकताओं के अनुसार समायोजित किया जा सकता है।

Q 5 अधिगम समस्याओं में योगदान देने वाले आंतरिक और बाह्य कारकों का वर्णन कीजिए

अधिगम समस्याओं में योगदान देने वाले कारक कई प्रकार के होते हैं, जिन्हें आंतरिक (आंतरिक या व्यक्तिगत) और बाह्य (बाहरी या पर्यावरणीय) कारकों में विभाजित किया जा सकता है। इन कारकों को समझने से समस्याओं का निदान और उचित हस्तक्षेप करना आसान हो जाता है।

 आंतरिक कारक:

आंतरिक कारक वे होते हैं जो व्यक्ति के भीतर होते हैं और उनके शारीरिक, मानसिक, और जैविक पहलुओं से संबंधित होते हैं।

1. न्यूरोलॉजिकल कारक:

   - मस्तिष्क के संरचनात्मक या कार्यात्मक समस्याएँ।

   - न्यूरोलॉजिकल विकार जैसे डिस्लेक्सिया, डिसग्राफिया, डिस्कैल्कुलिया।


2. आनुवंशिक कारक:

   - परिवार में अधिगम अक्षमता का इतिहास।

   - कुछ अधिगम समस्याएँ वंशानुगत होती हैं।


3. संज्ञानात्मक कारक:

   - स्मृति, ध्यान, और संज्ञानात्मक प्रसंस्करण की समस्याएँ।

   - कार्यकारी कार्यों (जैसे योजना, संगठन) में कठिनाई।


4. भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक कारक:

   - अवसाद, चिंता, और अन्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याएँ।

   - आत्मसम्मान में कमी और आत्मविश्वास की कमी।


5. शारीरिक स्वास्थ्य:

   - सुनने, देखने, या अन्य संवेदी समस्याएँ।

   - पुरानी बीमारियाँ या अन्य शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएँ।


 बाह्य कारक:

बाह्य कारक वे होते हैं जो व्यक्ति के बाहर होते हैं और उनके वातावरण, पारिवारिक पृष्ठभूमि, और सामाजिक परिवेश से संबंधित होते हैं।


1. परिवार और घर का वातावरण:

   - अस्थिर या तनावपूर्ण पारिवारिक वातावरण।

   - माता-पिता का समर्थन और संलग्नता की कमी।

   - घरेलू हिंसा या दुर्व्यवहार का इतिहास।


2. शैक्षिक वातावरण:

   - अयोग्य शिक्षण विधियाँ या शिक्षकों का प्रशिक्षण।

   - बड़े कक्षा का आकार और व्यक्तिगत ध्यान की कमी।

   - अनुचित शिक्षण सामग्री और संसाधनों की कमी।


3. सामाजिक-आर्थिक स्थिति:

   - गरीबी और आर्थिक कठिनाइयाँ।

   - पोषण की कमी और स्वास्थ्य सेवाओं की अनुपलब्धता।


4. समुदाय और सामाजिक समर्थन:

   - समुदाय में समर्थन सेवाओं और संसाधनों की कमी।

   - सामाजिक और सांस्कृतिक कारक जो अधिगम में बाधा उत्पन्न कर सकते हैं।


5. संस्कृति और भाषा:

   - भाषा में अवरोध, विशेषकर अगर घर में बोली जाने वाली भाषा स्कूल की भाषा से अलग हो।

   - सांस्कृतिक मूल्यों और मान्यताओं का प्रभाव।


 निष्कर्ष:

अधिगम समस्याएँ एक जटिल और बहुआयामी मुद्दा है, जिसमें आंतरिक और बाह्य दोनों प्रकार के कारक शामिल हो सकते हैं। सही निदान और हस्तक्षेप के लिए इन कारकों की गहन समझ आवश्यक है। व्यक्तिगत आवश्यकताओं और परिस्थितियों के अनुसार शिक्षण रणनीतियों और समर्थन उपायों को अनुकूलित करना महत्वपूर्ण है, ताकि बच्चों को उनकी पूरी क्षमता तक पहुँचने में मदद मिल सके।




Also Read


तो दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी यह पोस्ट ! इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें, Sharing Button पोस्ट के निचे है। इसके अलावे अगर बिच में कोई समस्या आती है तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें। अगर आप चाहें तो अपना सवाल हमारे ईमेल Personal Contact Form को भर पर भी भेज सकते हैं। हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी । इससे सम्बंधित और ढेर सारे पोस्ट हम आगे लिखते रहेगें । इसलिए हमारे ब्लॉग “studytoper.in” को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में Bookmark (Ctrl + D) करना न भूलें तथा सभी पोस्ट अपने Email में पाने के लिए हमें अभी Subscribe करें। अगर ये पोस्ट आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। आप इसे whatsapp , Facebook या Twitter जैसे सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर शेयर करके इसे और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें। धन्यवाद !

Now you should help us a bit

So friends, how did you like our post! Don't forget to share this with your friends, below Sharing Button Post.  Apart from this, if there is any problem in the middle, then don't hesitate to ask in the Comment box.  If you want, you can send your question to our email Personal Contact Form as well.  We will be happy to assist you. We will keep writing more posts related to this.  So do not forget to bookmark (Ctrl + D) our blog “studytoper.in” on your mobile or computer and subscribe us now to get all posts in your email.

Sharing Request

If you like this post, then do not forget to share it with your friends.  You can help us reach more people by sharing it on social networking sites like whatsapp, Facebook or Twitter.  Thank you !

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.